Fri. Sep 30th, 2022

देश की सबसे बड़ी लिस्टेड मीडिया कंपनी ZeeEntertainment औ रइस कंपनी में सबसे ज्यादाशेयरो कि हिस्सेदारी रखने वाली कंपनी Invesco देश की सबसे बड़ी लिस्टेड मीडिया कंपनी Zee Entertainment और इस कंपनी में सबसे ज्यादा शेयरो कि हिस्सेदारी रखने वाली कंपनी Invesco  के बीच में कंपनी के बोर्ड में नियंत्रण की लड़ाई में अब एक नया ही मोड़ आ गया है Zee Entertainment के संस्थापक व चेयरमैन डॉक्टर सुभाष चंद्रा ने, Zee में सबसे ज्यादा शेयर होल्डर रखने वाली कंपनी Invesco पर आरोप लगाया है  कि वह Zee Entertainment कंपनी पर कब्जा करना चाहती है आपको बता दें, zee एंटरटेनमेंट कंपनी की स्थापना डॉक्टर सुभाष चंद्रा ने करीब 20 साल पहले की थी.

ZEE – INVESCO DISPUTE

इसी के साथ डॉक्टर सुभाष चंद्रा ने कहा कि यदि Invesco को कंपनी का शेयर ही चाहिए, तो वह ओपन रूट के जरिए भी जी में हिस्सेदारी ले सकती है इसके बाद डॉक्टर चंद्रा ने बाजार में नियंत्रण बनाने वाली SEBI और कारपोरेट मामलों के मंत्रालय के साथ ही साथ जी के सभी शेयरधारकों से अनुरोध किया है, कि वह Invesco और ओएफआई के इरादों की जांच करें.

डॉ चंद्रा zee की यात्रा को बताते हुए भावुक होते हुए कहा कि Zee न केवल उनका हैं बल्कि भारत के लगभग 2.50 लाख शेरहोल्डर्स का भी है और वे उसे किसी भी विदेशी कम्पनी के नियंत्रण में नहीं जाने देंगे।

एक निजी टीवी शो को दिए गए साक्षात्कार में सुभाष चंद्रा ने कहा कि zee एंटरटेनमेंट का सोनीपिक्चर के साथ मर्जर होने के बाद से ही Invesco,  गैर कानूनी तरीके से ZEEL को नियंत्रण करने की कोशिश कर रही है.अपनी बातकोआगे कहते हुए डॉक्टर सुभाष चन्द्रा उन्हें लगता है. कि चीन ZEE एंटरटेनमेंट के खिलाफ साजिश कर रहा है या फिर यह सभी कदम किसीऔर कार्पोरेट घराने के इशारे पर हो रहा है.

ZEE vs. INVESCO विवाद क्या हैं ? Dispute of ZEE vs. INVESCO

दोस्तों, Zee Entertainment और Invesco कम्पनी के के बीच नियंत्रण को लेकर यह विवाद पिछले महीने तब शुरू हुआ जब zee एंटरटेनमेंट में 18% हिस्सेदारी रखने वाली कंपनी Invesco और ओएफआई ने डॉ. सुभाष चंद्रा के बेटे व कम्पनी के CEO पुनीत
गोयनका सहित Zee कंपनी के तीन निदेशकों को हटाने और कम्पनी में 6 नए निदेशकों की नियुक्ति के लिए, एक्स्ट्राऑर्डिनरी जनरल मीटिंग (EGM) बुलाई थी. बता दें कि पिछले महीने ही ZEE और SONY TV का विलय हुआ है जिसके तहत यह तय किया गया था। कि
इस विलय के बाद भी पुनीत गोयनका कंपनी के शीर्ष पर बने रहेंगे और इसी विलय के बाद ही Invesco और ओएफआई ने कोर्ट में मामला दायर किया था। कम्पनी में सबसे ज्यादा हिस्सेदारी रखने के कारण उसने National Company Law Tribunal ( NCLT) में भी जा
चुका है.

अक्टूबर -नवंबर में किन आईपीओ में आप इन्वेस्ट कर सकते है

दोनों पक्षों का यह मामला कोर्ट पहुंचने के बाद डाॅ. सुभाष चंद्रा ने कहा, कि मैं Zee बोर्ड से अपनी करना चाहता हूं कि वे Invesco कम्पनी को कहें कि वे एक EGM मीटिंग बुलाने के लिए तैयार हैं. जिसमें Invesco हमें उनकी डील बताएं. हम Invesco डील और SONY डील
को अपने शेयरधारकों के सामने खुले तौर पर रखेंगे और अब वे ही फैसला लेंगे कि वे सभी Invesco के साथ है या Sony के साथ.

ZEE में ये रखते है इतने प्रतिशत की हिस्सेदारी (Percentage of Stake in ZEE Ent)

देश की सबसे बड़ी लिस्टेड मीडिया कंपनी और India का पहला satellite channel में बहुत से लोग शेयर होल्डर हैं. आइये जानते हैं कि कौन ZEE में कितने % की हिस्सेदारी रखता है. Zee Entertainment के संस्थापक सुभाष चंद्रा उनके परिवार के पास लगभग 4% की हिस्सेदारी है इसी के साथ 8% की हिस्सेदारी mutual Fund के हैं लगभग 20% हिस्सेदारी पब्लिक शेयरधारकों के पास है जबकि Invesco और ओएफआई ग्लोबल चाइना फंड के पास लगभग 18% हिस्सेदारी है.



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *