Sun. Oct 2nd, 2022

अधिकतर लोग अपने पैसों को पुराने निवेश विकल्पों जैसे की FD और बॉन्ड्स आदि में निवेश करना पसंद करते हैं लेकिन कुछ ऐसे निवेश विकल्प भी है जिनके द्वारा अधिक प्रॉफिट प्राप्त किया जा सकता हैं और उन्ही में से एक हैं Mutual Funds! म्युचुअल फंड्स में निवेश करने से पहले आपको इससे जुडी हुई कुछ चीजों के बारे में जानना होता हैं जिनमे SIP, SWP और STP आदि निवेश प्लान भी शामिल हैं। इस लेख में हम SIP, SWP और STP के बारे में बात करते हुए ‘SIP, SWP और STP में क्या अंतर हैं’ (What is the difference between SIP, SWP and STP in Hindi) के बारे में जानेंगे।

Table of Contents

    SIP क्या होता हैं?

    अगर आप म्युचुअल फंड्स में रूचि रखते हो तो आपने SIP के बारे में जरुर सुना होगा। यह म्युचुअल फंड्स में निवेश करने के लिए मौजूद सबसे बेहतरीन निवेश प्लान्स में से एक हैं। SIP की फुल फॉर्म होती हैं Systematic Investment Plan! सिस्टेमेटिक इन्वेस्ट प्लान का तात्पर्य से हैं जिसमे एक निश्चित समय के अंतराल में म्युचुअल फंड्स में निवेश किया जाता हैं। यानि की म्युचुअल फंड्स में पैसा इन्वेस्ट करने के लिए एक ऐसा प्लान जिसमे एक निश्चित इंटरनवल के साथ म्युचुअल फंड्स में पैसा निवेश किया जाता हैं।

    म्यूच्यूअल फंड्स के सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान में निवेशक एक निश्चित अंतराल में फंड्स में पैसा निवेश करता हैं। एसआईपी में मुख्य रूप से कम मात्रा में ही पैसा निवेश किया जाता हैं और इससे संबंधित खास बात यह हैं की इसमें लक्ष्य आधारित निवेश किया जाता हैं। एसआईपी में स्माल क्वांटिटी में एक निश्चित अंतराल में म्युचुअल फंड्स यूनिट्स को खरीदा जाता हैं। कोई भी निवेशक 500 रुपए और कई मामलों में ₹100 प्रति माह से भी एसआईपी के द्वारा म्यूचुअल फंड में निवेश करना शुरू कर सकता है।

    SIP ,SWP,AND SID DIFFERENCE

    सरल भाषा में अगर सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान को समझा जाए तो सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान में निवेशक म्यूच्यूअल फंड्स में एक निश्चित अमाउंट हर महीने या फिर प्लान के अनुसार एक निश्चित समय में निवेश करता हैं जैसे की 500 रूपये प्रतिमाह या फिर 5 हजार रूपये प्रतिमाह। एसआईपी कई तरह की हो सकती हैं जिसमे मासिक, पाक्षिक या त्रैमासिक शामिल हैं। एसआईपी के द्वारा पावर ऑफ़ कम्पाउंडिंग और रूपी कोस्ट एवरेजिंग जैसे फायदों का लाभ उठाया जा सकता है और साथ में पैसे बचाने की हेबिट भी बनाई जा सकती हैं।

    STP क्या होता हैं?

    एसआईपी अर्थात सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान के बारे में हम आपको पर्याप्त जानकारी दे चुके हैं तो चलिए आप जानते हैं Mutual Funds STP के बारे में। एसआईपी म्युचुअल फंड्स में निवेश के लिए सबसे बेहतरीन प्लान में से एक है और ऐसे अधिकतर लोगों के द्वारा उपयोग भी किया जाता है लेकिन एसटीपी अधिक लोकप्रिय नहीं है तो ऐसे में जो लोग म्यूचुअल फंड में रुचि रखते हैं केवल उन्हें इसके बारे में पर्याप्त जानकारी होती है। एसटीपी म्यूचुअल फंड में निवेश के लिए एक फ्लैक्सिबल इन्वेस्टमेंट प्लान बना जाता है।

    सबसे पहले STP की फूल फॉर्म की बात की जाये तो वह Systematic Transfer Plan होता हैं जिसके नाम से ही इसका तात्पर्य समझ आता हैं। म्युचुअल फंड्स के सिस्टमैटिक ट्रांसफर प्लान में निवेशक किसी एक म्युचुअल फंड्स में पैसा निवेश करके उन पैसो को किसी दूसरी स्किम में एसआईपी की तरह रेगुलर बेस पर अर्थात एक निश्चित अवधि में ट्रांसफर कर सकता हैं। एसटीपी में एक स्किम से दूसरी स्किम में निर्धारित अवधि में नियमित तौर पर पैसा निवेश तो किया जा सकता है लेकिन किसी एक ही फंड हाउस में।

    सिस्टमैटिक ट्रांसफर प्लान में मुख्य रूप से पैसा मार्केट वोलेटिलिटी को अवॉयड करने के लिए ही किया जाता हैं। एसटीपी के अंतगर्त आसानी से म्युचुअल फंड्स में लिक्विड और अल्ट्रा-शार्ट टर्म फंड्स से आसानी से इक्विटी फंड्स में पैसा ट्रांसफर किया जा सकता हैं। जो लोग इक्विटी फंड्स में एक साथ पैसा निवेश करना चाहते हैं और बेहतरीन रिटर्न प्राप्त करना चाहते हैं बिना मार्केट वोलेटिलिटी के, उनके लिए सिस्टेमेटिक ट्रांसफर प्लान एक बेहतरीन विकल्प हैं।

    SWP क्या होता हैं ?

    म्युचुअल फंड्स निवेश के लिए एक बेहतरीन विकल्प हैं जिसमे अगर समझदारी के साथ पैसा निवेश किया जाये तो वाकई में एक बेहतरीन रिटर्न प्राप्त की जा सकती हैं लेकिन इसमें एक बार पैसा निवेश करके एक रेगुलर इनकम भी तैयार की जा सकती हैं। जी हाँ, यह सम्भव हैं SWP के द्वारा जो उन लोगो के लिए म्युचुअल फंड्स में निवेश करने के लिए सबसे बेहतरीन प्लान माना जाता हैं जो एक बार निवेश के द्वारा अपनी इनकम तैयार करना चाहते हैं।

    सबसे पहले अगर SWP की फुल फॉर्म की बात की जाये तो Systematic Withdrawal Plan हैं। सुपका तात्पर्य म्युचुअल फंड्स में निवेश के लिए मौजूद एक ऐसे प्लान से हैं जिसमे एक बार किसी कम रिस्क वाले फंड जैसे की लिक्विड फंड में पैसा निवेश करके उससे एक निश्चित अंतराल में बार-बार पैसा निकाला जाता है और अपनी एक इनकम तैयार कर ली जाती हैं। इस प्लान में अच्छे अकाउंट में पैसा निवेश करके उसे स्मॉल अमाउंट से निकाला जाता है।

    सिस्टमैटिक विड्रोल प्लान को एसआईपी का बिल्कुल विपरीत माना जाता है क्योंकि इसमें एक बार पैसे निवेश करके बार-बार पैसा निकाला जा सकता हैं। सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान की तरह ही सिस्टमैटिक विड्रोल प्लान में भी साप्ताहिक, मासिक या त्रैमासिक के विकल्प होते हैं और निवेशक अपनी सुविधा के अनुसार किसी भी विकल्प का चयन करके एक एक बार पैसा निवेश करके उन पैसों को रिटर्न के साथ निश्चित अवधि में स्मॉल अमाउंट्स में प्राप्त कर सकता है।

    Difference between SIP, SWP and STP in Hindi – SIP, SWP और STP में क्या अंतर  हैं ?

    सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान, सिस्टमैटिक विड्रोल प्लान और साथ ही सिस्टमैटिक ट्रांसफर प्लान के बारे में हम आपको पर्याप्त जानकारी दे चुके हैं तो चलिए अब इनके बिच के अंतर् की बात करते हैं। सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान में जहां एक तरफ किसी म्यूच्यूअल फंड स्कीम में एक निश्चित अंतराल में टुकड़ों में पैसा निवेश किया जाता है तो वहीं दूसरी तरफ सिस्टमैटिक ट्रांसफर प्लान में एक स्कीम में एक बार पैसा निवेश करके उस स्कीम से उस पैसों को टुकड़ों में दूसरी स्कीम में ट्रांसफर किया जाता है। वही एसडीपी में एक बार पैसा निवेश करके उसे एक निश्चित अवधि में टुकड़ों में निकाला जाता हैं।

    बिज़नेस लोन कैसे लें.बैंक द्वारा बिज़नेस लोन लेने की पूरी जानकारी

    अब अगर सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान, सिस्टमैटिक विड्रोल प्लान और सिस्टेमेटिक ट्रांसफर प्लान को उदाहरण के साथ समझा जाये तो सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान में आप हर महीने ₹500 निवेश कर सकते हो तो वही सिस्टमैटिक ट्रांसफर प्लान में आप म्यूचल फंड की किसी एक स्कीम में एक बार 50000 निवेश कर सकते हो और उस स्किम के पैसों में से दूसरी स्कीम में हर महीने ₹500 ट्रांसफर होते रहते हैं। वही सिस्टमैटिक विड्रोल प्लान में आप एक बार स्किम में 50,000 निवेश करके हर महीने ₹500 का विदड्रॉल ले सकते हो।

    निष्कर्ष!

    म्यूच्यूअल फंड्स के बारे में वर्तमान में हमारे देश में कहा जाता है कि इसमें पैसा निवेश करना अधिक सुरक्षित नहीं है और यह बात काफी हद तक सही भी है लेकिन अगर पूरी जानकारी लेकर सटीक रूप से म्यूच्यूअल फंड में पैसे निवेश किया जाए तो काफी बेहतर रिटर्न भी प्राप्त किया जा सकता है। म्यूच्यूअल फंड्स में निवेश हेतु SIP, SWP और STP प्लान होते हैं जिनके बारे में कई लोगो को पर्याप्त जानकारी नहीं है और यही कारण है कि हमने यह लेख लिखा है जिसमें हमने ना केवल इन इन्वेस्टमेंट प्लांस के बारे में जानकारी दी है बल्कि ‘SIP, SWP और STP के बिच अंतर’ को भी स्पष्ट किया हैं।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *