Mon. Oct 3rd, 2022




हर व्यक्ति चाहता हैं कि उसे और उसके परिवार को किसी तरह की आर्थिक समस्याओं का सामना ना करना पड़े। लेकिन जिन लोगो की आय कम होती है वह इस तरह की आशंकाओं से घिरे हुए रहते हैं तो ऐसे में वह कुछ निवेश करते हैं और उसके माध्यम से अपने परिवार को सुरक्षित करते हैं। Mutual Funds और ULIPs इस तरह के लोगो के द्वारा पसन्द किये जाने वाले सबसे बेहतरीन Investment Plans या Strategy हैं। Mutual Funds और ULIPs दोनो कई मामलों में समान हैं तो ऐसे में लोग इन्हें एक समझ बैठते हैं लेकिन इनमे काफी अंतर है और उसी के बारे में हम आज बात करेंगे। जी हाँ, इस लेख में हम ‘म्यूच्यूअल फंड और यूलिप्स के बीच के अंतर’ (Mutual Funds vs ULIPs) के बारे में बात करेंगे।

Table of Contents

    Mutual Funds क्या होता हैं?

    Mutual Funds एक ऐसा Investment हैं जिसमे सभी निवेशकों के पैसो को एक साथ मिलकर AMC अर्थात Asset Management Company के द्वारा मैनेज किया जाता हैं। जो फंड्स कम्पनी के पास कलेक्ट होता हैं. वह कई तरह के निवेश विकल्पों जैसे कि Bonds, Stock, Money Market और Instrument आदि में निवेश किया जाता हैं। Mutual Funds में मिलने वाला रिटर्न या लॉस सीधे तौर पर इस बात पर निर्भर करता हैं , कि जिन Securities में AMC निवेश कर रही हैं, वह कैसा परफॉर्म कर रही हैं।

    Mutual Funds को एक तरह से Pool Investment माना जाता हैं. जिसमे कई लोगो का पैसा एक साथ मिलाकर निवेश किया जाता हैं, यह पैसा एक Fund Manager के द्वारा मैनेज किया जाता हैं। सरल भाषा मे इसको समझा जाये तो जैसे एक कार स किसी स्थल पर जाने पर सबको परिणाम वही मिलेगा .लेकिन उनका पैसा ज्यादा लगेगा लेकिन बस से जाने पर कम पैसे में वह वहां पहुच जाएंगे। निवेशक इसमी यात्री होते हैं और ड्राइवर को Fund Manager कहा जा सकता हैं . जो सबके पैसों को एकत्रित करके निवेश करता है . और फिर उससे रिटर्न प्राप्त करता हैं जो Funds में निवेश करने वाले लोगो को मिलता हैं।

    ULIPs (Unit Linked Insurance Plans) क्या होता हैं?

    इंश्योरेंस के बारे में हम सभी भली-भांति जानते हैं , लेकिन अगर बात की जाए Unit Linked Insurance Plan की तो यह एक तरह का Combination होता है . जिसमें Investment और Insurance दोनो शामिल होता हैं। Unit Linked Insurance Plan एक तरह की ऐसी पॉलिसी होती हैं . जो निवेशकों को न केवल Life Cover की सिक्योरिटी प्रदान करती है बल्कि निवेश के माध्यम से अपनी एक Wealth तैयार करने का मौका भी देती है।

    Mutual Funds vs ULIPs Investment

    Unit Linked Insurance Plans के अंतर्गत निवेशकों के द्वारा निवेश किए जाने वाले पैसे का एक हिस्सा निवेशको को सिक्योरिटी कवर प्रदान करने के लिए जाता है. तो वही दूसरा हिस्सा Long Term में Instruments और Inquity आदि के माध्यम से निवेशकों के लिये Wealth तैयार करने में उपयोग लिया जाता हैं। ऐसे में जो लोग अपने परिवार के लिए सुरक्षित चाहते हैं और साथ ही वेल्थ क्रिएटर करने में विश्वास रखते हैं वह ULIPs पर ज्यादा भरोसा करते हैं।

    Mutual Funds vs ULIP- म्यूचअल फंड्स और यूलिप्स में अंतर (Difference between Mutual Funds and ULIP)

    Mutual Funds और ULIPs दोनो में निवेश का तरीका करीब एक ही होने के चलते कई बार इन दोनों को समान मान लिया जाता है लेकिन म्यूचुअल फंड्स और यूनिट लिंक्ड इंश्योरेंस प्लान में काफी अंतर है, जो कुछ इस प्रकार हैं:

    निवेश का उद्देश्य : म्युचुअल फंड्स एक तरह की शुद्ध इन्वेस्टमेंट स्ट्रेटजी है, जिसका मुख्य उद्देश्य वेल्थ तैयार करना और लॉन्ग धर्म में बेहतरीन रिटर्न्स प्राप्त करना है. जबकि ULIPs मुख्य रूप से एक Insurance प्लान ही होते हैं जो मार्केट से संबंधित निवेश के द्वारा वेल्थ क्रिएट करने की एक्स्ट्रा एडवांटेज ग्राहकों को देते हैं।

    इंवेस्टमेंट पर रिटर्न : क्योंकि ULIPs में निवेश किए गए पैसे को Equity और Debt या दोनों के कॉन्बिनेशन में निवेश किया जाता है . तो इसमें मिलने वाली रिटर्न्स डायनेमिक हो सकती है . जबकि म्यूच्यूअल फंड्स में आप जिस भी तरह का म्यूचल फंड चुनते हो उससे संबंधित बाजार में निवेश किया जाता है तो ऐसे में म्यूचुअल फंड में मिनिमम रिटर्न की कोई गारंटी नहीं होती।

    लॉक-इन पीरियड : क्योंकि यूनिट लिंक्ड इंश्योरेंस प्लान मुख्य रूप से एक प्रकार के इंश्योरेंस प्लान ही होते हैं . तो इनमें लॉक इन पीरियड निर्धारित रहता है जो कम से कम 5 वर्ष का होता है . लेकिन म्यूचुअल फंड में मुख्य रूप से कोई लॉक इन पीरियड नहीं रहता। ग्राहक जब चाहे तब म्युचुअल फंड्स से अपना पैसा निकाल सकता है .लेकिन कुछ म्युचुअल फंड्स ऐसे भी हैं जिनमें कम से कम 3 साल का लॉक इन पीरियड रहता है।

    ट्रांसपेरेंसी : किसी ने निवेश में ट्रांसपेरेंसी का होना आवश्यक है . और अगर बात की जाए म्यूचल फंड के ट्रांसपेरेंसी की तो यह वाकई में काफी ट्रांसपेरेंट है जिसमें ग्राहकों को होल्डिंग, एक्टिव फंड मैनेजर और फीस चार्ज आदि की सभी जानकारी दी जाती है तो वहीं दूसरी तरफ यूनिट लिंक्ड इंश्योरेंस प्लान्स भी अब काफी ट्रांसपेरेंट ही चुके हैं जो Fund Allocation की अग्रिम जानकारी निवेशकों को उपलब्ध करवाते हैं।

    एक्सपेंस : म्यूच्यूअल फंड्स में निवेशकों से मैनेजमेंट फीस और ऑपरेशनल फीस ली जाती है . जो एक्सपेंस रेशों को रेफर करती है। काफी सारे म्यूच्यूअल फंड से एग्जिट चार्ज भी लेते हैं , और अगर वही बात की जाए यूनिट लिंक्ड इंश्योरेंस प्लान की तो प्रीमियम एलोकेशन चार्ज, फंड मैनेजमेंट चार्ज, एडमिनिस्ट्रेशन चार्ज और मोर्टेलिटी चार्ज जैसे चार्ज यूनिट लिंक्ड इंश्योरेंस प्लान में पॉलिसी धारक से लिए जाते हैं जो इसके एक्सपेंस में गिने जाते हैं।

    बिज़नेस लोन कैसे लें.बैंक द्वारा बिज़नेस लोन लेने की पूरी जानकारी 

    रिस्क कवर : अगर रिस्क कवर की बात की जाए तो यूनिट लिंक्ड इंश्योरेंस प्लान एक तरह का Insurance Plan ही हैं जिसमे निवेशकों को लाइफ कवर प्रदान किया जाता हैं तो वही दूसरी तरह Mutual Funds में ऐसे मामलों में इन्वेस्टमेंट को नॉमिनी के अकाउंट में ट्रांसफर कर दिया जाता है।

    Mutual Funds और ULIP में से कौन बेहतर हैं?

    म्यूच्यूअल फंड्स और यूनाइटेड इंश्योरेंस प्लान में काफी सारे लोग कई बार कंफ्यूज हो जाते हैं लेकिन यह दोनों ही प्लान अपनी फैसिलिटी इसके चलते अपने आप में ही काफी बेहतर है। इन दोनों में से कौनसा ज्यादा Suitable हैं यह पूरी तरह से निवेशक पर ही निर्भर करता हैं। दोनों में से किसी में भी निवेश करने से पहले निवेशक को अपनी Financial Needs को एनालाइज कर लेना चाहिए , और उसके बाद ही निवेश शुरू करना चाहिए। कुछ Mutual Funds को छोड़कर सभी में पैसा कभी भी निकाला जा सकता है, तो वही दूसरी तरह ULIPs का अपना एक लोक-इन पीरियड रहता हैं लेकिन इसने Life Cover भी मिलता हैं। इन सभी बातो को ध्यान में रखते हुए ही दोनो के से किसी एक का चुनाव करना सही रहता हैं।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *