Sat. Oct 1st, 2022

देश मे अपने की क्षेत्र मे एकाधिकार रखने वाली कंपनी IRCTC मे पिछले कुछ महीने मे बड़ा उछाल देखने को मिला. Irctc भारतीय रेलवे द्वारा अधिकृत एकमात्र इकाई है जो रेलवे स्टेशन और ट्रैन के अंदर खानपान सेवाएंऔर सभी लोगो को ऑनलाइन टिकट और पैकेज फ़ूड उपलब्ध कराता है.

यदि covid के समय की स्थिति को ध्यान मे रखा जाये तो irctc शेयर  मे बहुत ज्यादा तेज़ी दिखाई  है. अप्रैल -मई मे ये शेयर  1500-1600 rs तक के स्तर मे ट्रेड हो रहा था. वहा से इस शेयर ने पिछले दिनों 6396 के आस पास के स्तर पे देखा गया. जो अपने आप मे अभी तक का इसका सर्वोत्तम उच्च स्तर है. और निवेशकों ने बहुत अच्छा रिटर्न्स दिया. हालांकि irctc ने अभी भी covid के कारण अपनी ट्रैन सेवा पूरी तरह से शुरू नहीं की है.

Irctc के शेयर मे गिरावट (irctc shares fall)

पिछले 2दिनों मे निवेशकों को irctc के शेयर ने बहुत भारी झटका दिया है. Irctc के शेयर 32%तक गिरावट देखने को. मिली.2दिन. मे ही इसने अपने उच्चतम स्तर को 6396rs के स्तर को छुआ और निवेशकों को भारी रिटर्न्स दिया परन्तु इसके कुछ समय बाद ही इसमें गिरावट देखने को मिली मंगलवार मे 15%के करीब व बुधवार को 18% के करीब गिरावट देखने को मिली. और बुधवार को 4434 rs के स्तर पे बंद हुआ और निवेशकों भारी नुकसान उठाना पड़ा.

Irctc शेयर मे क्यू आयी इतनी गिरावट (Why did irctc share fall so much in hindi?)

Irctc के शेयर मे गिरावट से निवेशकों को भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है. NSE ने f&O सूची से irctc की स्टॉक पे प्रतिबन्ध लगा दिया. Nse ने फ्यूचर एंड ऑप्शन सेगमेंट के तहत प्रतिबन्ध कर दिया गया क्योकि यह बाजार MWPL की 95%की सीमा को. पार कर गया है. इस सीमा के पार होने पे NSE f&O सेगमेंट प्रतिबन्ध लगा देता है. पिछले 4 महीने मे देश मे 218%की बढ़ोतरी देखने को मिली.

IRCTC Share fall

MWPL सीमा क्या है(What is the MWPL limit in hindi)

MPWL( Market wide position limit ) वक सीमा जहोती है जो f&o सेगमेंट मे ट्रेड किये गए सभी स्टॉक निर्धारित करते है. यह कॉन्ट्रैक्ट की अधिकतम संख्या है जो कभी भी ओपन इंट्रेस्ट हो सकते है. यदि किसी स्टॉक का ओपन इंट्रेस्ट 95% को पार कर जाता है तो वह NSE की प्रतिबन्ध की सेवमा मे प्रवेश कर जाते है.

जब किसी f&O मे प्रतिबंधित हो जाते है तो उस समय किसी बहुत फ्रेश पोजीशन की अनुमति नहीं होती है. ये प्रतिबन्ध अपने आप निष्क्रिय (deactivate ) हो जाता है जब ओपन इंट्रेस्ट 80% सीमा के स्तर से नीचे आ जाता है.

बिटकॉइन में आयी तेज़ी जानिए क्या हुआ प्राइस

हालांकि बहुत से एक्सपर्ट सलाहकारों ने सभी निवेशकों को सावधान रहने की सलाह दी और इस तुरंत गिरावट मे खरीदारी नहीं करने की सलाह दी है. क्युकी उनके हिसाब से अगले कुछ आने वाले सत्रों मे बाजार कमजोर रहने की उम्मीद है. और जब दूसरी तिमाही के नतीजे घोषित होंगे तब स्टॉक सिमित दायरे मे रहेगा. परन्तु ज्यादातर विशेषज्ञ के हिसाब से ये शेयर ख़रीदारी  का उपयुक्त समय नहीं है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *