Thu. Sep 29th, 2022

जब भी कोई इन्वेस्टर अपने भविष्य के निवेश के लिए सोचता है तब उस कुछ  विकल्प दिखाई देते है जैसे की गोल्ड सिल्वर, गोल्ड bond,, म्यूच्यूअल फंड या SIP, govt बैंकिंग सेविंग scheme, मनी बैक पॉलिसी और जो निवेशक अच्छा रिटर्न्स चाहते है या जो थोड़ा रिस्क ले सकते है वो इंडियन स्टॉक मार्किट मे इन्वेस्टमेंट करते है. परन्तु वर्त्तमान समय मे बहुत से एक्टिव इन्वेस्टर इन सब प्लेटफार्म के अलावा भी भारत से बाहर इन्वेस्टमेंट के लिए मौके ढूंढ़ते रहते है. जैसे की US Stock exchange मे इन्वेस्टमेंट का. हम जानते है की यदि पूंजी के हिसाब से देखे तो तो US  स्टॉक एक्सचेंज हमारे स्टॉक एक्सचेंज से बहुत बड़ा है. अभी हालिया न्यूज़ मे अगस्त मे यह खबर आयी थी की NSE (National stock exchange ) US  मार्केट मे इन्वेस्टमेंट का प्लेटफॉर्म शुरुआत करने वाला है. जिस से हम लोग US  मार्केट मे इन्वेस्टमेंट कर सकेंगे.ताकि हम अपने पोर्टफोलियो को और मजबूत कर सके.

Table of Contents

    विदेशी बाजार में निवेश क्यों (Why investing in Global market)

    जेब कोई इन्वेस्टर इक्वटी मार्केट मे इन्वेस्टमेंट करते है तब सभी प्रकार की कम्पनी large कैपिटल,small कैपिटल सभी तरह की कम्पनीयों मे निवेश करते है. इसमें देश की बड़ी कंपनी भी है जिनमे बड़े इन्वेस्टर इन्वेस्टमेंट करते है.परन्तु बहुत बड़ी कम्पनीया है जो दुनिया के top 10 या 20 कंपनी की लिस्ट मे आती है. परन्तु इंडियन stock एक्सचेंज मे लिस्टेड नहीं होने के कारण हम इन कम्पनीयों मे invest नहीं कर पाते जैसे की facebook, amazon Apple, Netflix और google ये सभी कम्पनीया सालों  से दुनिया के मार्केट पर राज कर रही है. और इस कतार मे तेज़ी से बढ़ने वाली कम्पनियाँ भी है जैसे Micro soft, Nvidia, शॉपिंफी, Tesla, Tencent, Ping और अन्य बहुत सी कम्पनियाँ है जिनमे भारत का निवेशक निवेश करना चाहता है.

    अमेरिका शेयर बाजार सूचकांक भारतीय सूचकांक से की तुलना मे कम अस्थिर होते है. इसलिए यहां निवेश करना सुरक्षित और प्रॉफिट का हो सकता है.US stock मार्केट का पिछले 10 सालो मे शुद्ध डॉलर के मामले मे भारतीय bazaar से बेहतर प्प्रदर्शन किया है. मुख्यतः US stock मार्केट मे 3 व्यापक इंडेक्स होते है

    • S&P500
    • Daw jones
    • Nasdaq

     S&P 500 अभी  4400 के ऊपर लेवल को छू चूका है. वंही Daw jones -35000 से ऊपर के लेवल पर है. जो रिकॉर्ड स्तर के आस पास ही है. Nasdaq भी अपने उच्च स्तर पर 15000 के आस पास ट्रेड कर रहा है.

    वैश्विक बाजार निवेश के लिए मानदंड और शुल्क { Norms and Charges for Global market Investment  in Hindi}

    GLOBAL OR US MARKET investment

    Currency exchange rate

    जब भी हम विदेशी शेयर मे निवेश करते है तो इसमें हमेशा मुद्रा का जोखिम होता है .जैसे की यदि मैने आज 1$=75rs इन्वेस्ट किया और अगले साल उस  शेयर को sell करके  अपना प्रॉफिट book किया परन्तु हों सकता है. की अगले साल डॉलर का रेट कम हो जाये तो इस मनी एक्सचेंज मे आपको हानि हो सकती है. परन्तु इसी के विपरीत यदि डॉलर का भाव बढ़ गया 1$=78 rs तो आपको मनी कन्वर्ट करने पर 3 rs तक का फायदा होगा. इसमें रिस्क और लाभ दोनों हो सकते है.

    वैश्विक बाजार निवेश के लिए आरबीआई के मानदंड (RBI norms for Global market investment in hindi )

     RBI की LRS (liberalised Remittance scheme ) एक योजना है जिसके अंतर्गत भारत से बाहर जो भी निवेश करता है डायरेक्ट और इंडायरेक्ट माध्यम से उसके लिए कुछ नियम बनाये गए. इस नियम मे RBI ने देश से बाहर एक निश्चित राशि भेजनें का नियम बनाया है  जिसके अंतर्गत एक व्यक्ति 250000$तक  एक वित्तीय वर्ष मे पैसे भेज या इन्वेस्ट कर सकता है. इस राशि को पारिवारिक कार्य, उपचार, अध्ययन, दान आदि मे भी उपयोग किया जा सकता है.

    लेन-देन के लिए पैन अनिवार्य {PAN compulsory required for transaction}

    Rbi द्वारा LRS के नियमों मे थोड़ा सख़्ती का रुख दिखाते हुए बदलाव किया है. अब देश से बाहर 25000 डॉलर से बजी कम लेनदेन मे PAN को अनिवार्य कर दिया है.

    How to invest Foreign or US market

    विदेशी market मे invest करने के लिए 2सबसे बेहतर तारेवके होते है.

    1:direct investment इन foreign market

    2: Indirect investment in stock market

    Direct investment

     Direct investment से यह  मतलब है की हम सीधे फॉरेन stock market मे invest कर सकते है.

    Open overseas Trading account

     देश मे कुछ ऐसे  ब्रोकर है जो आपको US stock market मे सीधे निवेश करा सकते है. जैसे भारत मे zerodha, angel broking जैसी broking कम्पनियाँ इंडियन stock market मे निवेश कराती है है और इसके बदले वो हमसे कुछ broking charges लेते है. उसी प्रकार कुछ broking फर्म है जी विदेश मे निवेश का माध्यम है.

      Stockal account :-

     वर्तमान मे भारत मे stockal केवल हमारे देश को अमरेका stock एक्सचेंज मे इन्वेस्ट करने की इजाजत देता है. यह निवेशकों के लिए एक बेहतरीन प्लेटफॉर्म है. Nasdaq इत्यादि मे यह कम्पनी आर्टिफिशल intelligence के माध्यम से रिसर्च भी करके एनालिसिस प्रदान करती है.Stockal के पास अभी अफ्रीका, मलेशिया stock market इंडोनेशिया आदि के बाजार मे भी इन्वेस्ट करवाने की की भावी योजनाएं है. भविष्य मे स्टॉकल द्वारा बहुत से foriegn market मे बहुत से देशो निवेश की सुविधा भारतीयों को देने का विचार भी बना रही है. इसमें भी आपको अलग अलग विकल्प मिलते है जो आपके निवेश को हर तरीके से बेहतर बनाने व आपके चयन के हिसाब से बनाया जगया है.

    Thematic stack :- यह सभी निवेशकों को अपडेट रखता है. Market और इंटेनेशनल बदलाव व अपडेट को निवेशक को बताता है.

    Expert stacks :- industry और corporate प्रोफेशनल के द्वारा design किये गए विभिन्न पोर्टफोलियो है जिमे हम इन्वेस्ट कर सकते है.

    Industry stacks :- इसमें निवेशक को भिन्न भिन्न इंडस्ट्री मे निवेश करने करने के मौका देता है. ताकि वह अपने पोर्टफोलियो मे विविधता लेके आ सके.

    Stockal charges

    Basic plan :-इसके बेसिक plan की कीमत 0rs है. प्रत्येक ट्रेड के लिए आपको 2.99us डॉलर खर्च करंव होंगे

    सिल्वर plan :- इसकी मेम्बरशिप का शुल्क 3999 rs है इसमें आपके कमीशन को घटा के 0.99 USD /ट्रेड कर दिया काटा है. और 24/7 ईमेल सहायता की आपको सुविधा मिलती है.

    Golden plan:-इसकी वार्षिक सदस्य्ता  शुल्क 13999 के लिए व्यापार के कमिशन को घटाकर 0.01USD/ट्रेड कर दिया जाता है. इसमें आपको email और hotline support की भी जरुरत होती है

    vested account :-

    vested के माध्यम से भी हम US market मे इन्वेस्ट कर पाते है. इसके लिए vested के 2 तरह plan है

    • basic plan,
    • premium plan

    ब्रोकरेज कभी चार्जेस फिक्स होते है. प्रति ट्रेड के हिसाब से और कभी %के रूपये मे brokerage charges लिए जाते है. यदि अकाउंट ओपनिंग चार्ज शून्य होता है तो ब्रोकरागु चार्ज अधिक होता.

    Ind wealth :-

    यह आपको म्यूच्यूअल फंड, इन्शुरन्स, और Us stock market मे सीधे निवेश की सुविधा देते है. यह आपके लोन और क्रेडिट कार्ड पर नज़र रखने investment करताै.अकाउंट ओपनिंग चार्जेस free है. PAN और आधार कार्ड डिटेल्स अनिवार्य है. फंड ट्रांसफर होने के बाद stock और ETF मे आप इन्वेस्ट कर सकते है और केटेलोग के माध्यम से इन्वेस्टमेंट को अनुकूलित निवेश प्रस्ताव प्राप्त करने के ये अपने फंड मैनेजर ता जाते है.

    क्रिप्टो करेंसी क्या है, इसके प्रकार मुनाफा, जोखिम, वैधता !

    Indirect investment

    Mutual fund :- बहुत से इन्वेस्टर जो भारत से बाहर इन्वेस्ट करना चाहते हो. परन्तु वह विदेशी ट्रेडिंग खाता खुलाने और उसमे न्यूनतम बैलेंस रखने मे सक्षम नहीं है. कई mutul fund कम्पनियाँ US स्टॉक मे और म्यूच्यूअल फंड मे निवेश करते है .यदि आपको  विदेशी स्टॉक मे निवेश का अनुभव नहीं है और आप उसका एनालिसिस नहीं कर पा रहे है. ऐसे मे mutual फंड के द्वारा वंहा के स्टॉक्स मे निवेश कर सकते है. क्युकी इसके लिए आपको फंड मैनेजर की सुविधा मिलती है.

    NSE Planing for Trading Platform for Indian Investor

    भारत में निवेशकों को जल्द ही NSE प्लेटफॉर्म के माध्यम से US Stock बाजार में ट्रेडिंग करने की अनुमति दी जा सकती है। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ऑफ इंडिया लिमिटेड (एनएसई) की पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी एनएसई इंटरनेशनल एक्सचेंज (एनएसई आईएफएससी) ने कहा है कि जल्द ही एनएसई आईएफएससी प्लेटफॉर्म के माध्यम से चुनिंदा यूएस स्टॉक्स में ट्रेडिंग की सुविधा होगी।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *