Fri. Sep 30th, 2022

आज के समय स्वास्थ्य की सुरक्षा बहुत बड़ी चुनौती के रूप में सामने आ रहा है. सभी को कोई ना कोई स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्या रहती है. और इसके लिए सभी को बहुत धन खर्च करना पड़ता है. जो सभी के लिए संभव नहीं हो पाता. और वर्तमान समय में कोविड जैसी परिस्थितियों के आने से यह समस्या हो विकट हो गयी है. क्युकी COVID में बहुत से परिवारों ने कोविड में इलाज कराने में अपने जीवन भर की कमाई लगा दी. इसलिए स्वास्थ्य बीमा योजनाओं ने ऐसे समय में लोगो का बहुत साथ दिया.इसलिए स्वास्थ्य बीमा आज के समय में सभी के लिए अति आवश्यक है. ये सुविधा सरकारी कर्मचारियो को सरकार द्वारा प्रदान की जाती है. उनको और उनकी पुरे परिवार को. पहले हमें यह समझना जरुरी है की यह क्या होता है और इसे कैसे, किस से व किन बातों का ध्यान रखते हुए लेना चाहिए.

देखा जाये तो स्वास्थ्य बीमा एक ऐसा समझोता है जिसके अनुसार कोई बीमा कंपनी किसी बीमार व्यक्ति के बीमार और दुर्घटना हो जाने पर उसके इलाज में हुए खर्च व अस्पताल का सारा खर्च उस कम्पनी द्वारा उठाया जाता है. यह पूरा खर्च इस बात पर निर्भर करता है की उसका बीमा का प्लान कौनसा है. उसमे इलाज कराने के लिए कितने पैसे की लिमिट दी हुई है.इन सभी बीमा कम्पनियो का बहुत से अस्पताल के साथ कॉन्ट्रैक्ट हो रखा होता है.इसलिए उन्हें कोई पैसा नहीं देना पड़ता. और यदि देते है तो उन्हें जल्द ही उसका मुआवज़ा मिल जाता है.

Table of Contents

    सही स्वास्थ्य बीमा कैसे चुने{ How to choose the right Health insurance  in Hindi}  

    जिन परिवारों या व्यक्तियों सर्कार द्वारा यह सुविधा नहीं है . उन्हें अलग से प्राइवेट व सरकारी संस्थाओ से स्वास्थ्य बीमा लेना पड़ता है. जब अभी आप भी किसी स्वास्थ्य बीमा  को लेने जाते है या उसमे इन्वेस्ट करने का निर्णय लेते है. तो आपको इसके साथ उस से जुड़े सभी नियम, सुविधाएं, लाभों की पूर्ण जानकारी होनी चाहिए . नहीं तो भविष्य में आपको बीमा कवरेज या क्लेम लेने में परेशानी  का सामना करना पड़ सकता है.हालांकि आजकल बहुत से बैंक प्राइवेट कम्पनी, NBFC भिन्न भिन्न प्रकार के स्वास्थ्य बीमा योजना देते है. जिनमे से सही बीमा का चुनाव करना बहुत मुश्किल हो जाता है. इसलिए बीमा लेने से पहले सही बीमा का चयन के लिए बहुत सी बातों का ध्यान रखना आवश्यकता होती है  जैसे की

    • सुनिश्चित राशि (sum assured )
    • न्यूनतम प्रवेश आयु और नवीनीकरण (minimum entry age और renewals )
    • रूम का चार्ज (Room rent)
    • NO claim bonus
    • हॉस्पिटल गठबंधन (Network hospitals and tei up)
    • सुविधा में समावेश व और बहिकरन (Facility inclusion and exclusion )
    • CSR ( Claim settlement ratio )
    • कैशलेस सुविधा cashless facility
    • Surgical and nonsurgical item reimbursement 
    • Top up per year
    • Compensation plan for salaried person 
    • Claim settlement time

    सुनिश्चित राशि (sum assured of insurance )

    यह किसी बीमा राशि का वह अधिकतम मूल्य है जो एक वर्ष के लिए कंपनी किसी व्यक्ति के बीमार होने पर देती है.आपके बीमा की अधिकतम राशि तक का इलाज आप हॉस्पिटल में करा सकते हो. परन्तु इसके ऊपर जितना भी खर्चा होगा वह आपको अपनी जेब से देना होगा.इसलिए हमें परिवार में सभी की आयु का ध्यान रखते हुए.बीमा का चुनाव करना चाहिए ताकि इलाज के दौरान आपको किसी भी प्रकार से अतिरिक्त खर्च ना करना पड़े.

    आयु सीमा और नवीनीकरण{Age limit and renewal}

    किसी भी policy के लिए कोई आयु  लिमिट नहीं होती है. आप अपने परिवार के छोटे बच्चो का भी हेल्थ insurance करा सकते है.और सीनियर सिटीजन के लिए भी हेल्थ बीमा की सुविधा होती है.65-80 वर्ष के आयु के व्यक्तियों के लिए उपलब्ध व्यापक कवर का विकल्प चुन सकते है. परन्तु अधिक उम्र वाले अथवा सीनियर सिटीजन लोगो के बेवमा का. प्रीमियम बहुत अधिक होता है. और उसके लिए उनके मेडिकल रिपोर्ट को भी कंपनी को दिखाना होता है. क्युकी उनकी सेहत की वर्तमान स्थिति को बताता है. उन्ही वर्तमान में कौनसी बीमारियां है. और उनके लिए कौनसा बीमा कवर ठीक रहेगा .

    वैसे सामन्यतः ३५ की उम्र के बाद सभी से हेल्थ चेकउप रिपोर्ट्स मांगी जाती है।  और नवीनी करण के समय पालिसी का रेट बढ़ाया जाता  है. पर कुछ कम्पनिया नवीनीकरण में  उपभोक्ता को इसमें कुछ छूट प्रदान करते है.है. अथवा कुछ क्रिटिकल बीमारियों का कवरेज उपलब्ध करते है.


    Selection Of Right Health Insurance Policy

    कवरेज में आईसीयू कक्ष शुल्क |{ ICU Room charges in coverage}

    हेल्थ बीमा में भिन्न प्रकार के प्लान होते है.सभी में रूम रेंट के कवरेज अलग अलग होते है. कुछ कम्पनिया सभी तरह के रूम की सुविधा कवरेज में रखते है. कुछ बीमा policy में 2000-2500 rs/day अर्थात इनके रूम चार्जेर्स फिक्स होते.यदि रूम का रेंट फिक्स अमाउंट से ज्यादा होता है तो वह अतिरिक्त पैसा आपको अपनी जेब से देना होता है. इसके अलवा ICU रूम के चार्जेस  भी अलग होते है. क्युकी ICU के रेंट अमाउंट सामान्यतः ज्यादा होता है . इसलिए policy में हमें इसके charges को भी चेक करना चाहिए. क्युकी कुछ policy में ICU के चार्ज शामिल नहीं किये जाते. तो आपको  अपनी सुविधानुसार इन्हे ध्यान रखना चाहिए.

    पॉलिसी में आवश्यक नो क्लेम बोनस {No Claim Bonus required in policy}

    No claim bonus यह एक प्रकार का बोनस होता है जी प्रति वर्ष आपके बीमा राशि बीमा  जोड़ दिया जाता है. परन्तु यह बोनस कुछ निश्चित स्थिति में ही मिलता है. यह एक तरह के इनाम के तरह होता है जो आपको प्रतिवर्ष क्लेम नहीं करने की स्थिति में मिलता है. यह सामान्य तौर पर दो मुख्य तरीके के होते है

    Higher sum insurance 

    Discount on premium

     NCB मेंके माध्यम से सभी कम्पनिया अपने ग्राहकों को स्वस्थ रहने और आवश्यकता होने पर ही दावा पेश करने के लिए प्रोत्साहित करते है. NCB की सीमा 50%तक तय होती है.

    कौन है Elon Musk क्या अब तय करेगा दुनिया का भविष्य

    सीएसआर दावा निपटान अनुपात और दावा समय {CSR claim settlement ratio and Claim time  in hindi}

    CSR एक प्रकार से बीमा क्लेम का दावा करने वालो की संख्या होती है यह किसी भी बीमा कम्पनी के द्वारा जितने क्लेम के दावो का निपटारा किया है और जितने क्लेम पेंडिंग होते है. जितने प्रोसेस में होते है. उसके हिसाब से कुल क्लेम किये गए दावे को प्रतिशत (%)के रूप में दिखया जाता है. यह %जितना ज्यादा होगा उपभोक्ता का भरोसा कर कंपनी पर और ज्यादा बढ़ता है. यह CSR हम IRDA की site पर चेक कर सकते है. CSR क्वाटरली, हाफईयर भी होता है..इरडा  की site पर आप csr क्के क्लेम की पूरी जानकारी ले सकते है.और ये भी अपनी कम्पनी से पता कर ले की एक क्लेम को सेटल होने में कितना time लगता.

    स्वास्थ्य बीमा पर टॉप अप{Top up on health insurance in Hindi}

     यह एक नियमित स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी है जो किसो हॉस्पिटल में भर्ती होने की लागत को तय करती है परन्तु एक लिमिट के बाद जिसे कटौती योग्य के रूप में जाना जाता है. Top का यूज़ आप अपनी पॉलिसी की अधिकतम सीमा का यूज़ कर लेने के बाद आप top up का यूज़ कर सकते हो. पर इसमें हमें यह ध्यान रखना होता है की किन बीमारियों का कवर इसमें दिया जाता है. Top up आपकी बीमा की अधिकतम सीमा या उस से अधिक  हो सकता है. जैसे की 5 लाख का बीमा कवर है तो 5 लाख यूज़ होने के बाद ही 5लाख रूपये तक का top up यूज़ कर सकते है.

     गैर सर्जिकल आइटम कवरेज(Non Surgical Item Coverage }

    कई हेल्थ बीमा में कम्पनी द्वारा सर्जिकल item का तो क्लेम दिया जाता है पर नॉन सर्जीकल आइटम पर क्लेम भुगतान नहीं किया जाता. क्युकी उन्हें पता नहीं होता की यह उनके बीमा में कवर है की नहीं. क्युकी कई बार एजेंट द्वारा इसके बारे में नहीं बताया जाता तब आपका क्लेम का पैसे 15-20%तक कम आता है. इसलिए पॉलिसी लेने से पहले बीमा कवर के बारे में अच्छे से जान ले.

     अस्पताल नेटवर्क और कैशलेस सुविधा{Hospital network and cashless facilityin hindi }

    कोई भी बीमा कम्पनी के अपना hospital network पुरे भारत में होता है. ये  देश में सभी राज्यों के शहरो और गाँवो में सभी जगह हॉस्पिटल से गठबंधन करते है. और इन network hospital में अधिकतल आपको  कैशलेस सुविधा मिलती है. आपको अपनी अधिकतम बीमा सीमा तक कोई पैसा नहीं देना होना. कोई cash या cheque, कार्ड किसी से कोई पेमेंट की जरुरत नहीं होती है.आपको सिर्फ पॉलिसी के पेपर या पॉलिसी कार्ड हॉस्पिटल को देना होता है. और वह आपकी  बीमा की अधिकतम सीमा तक ही उसका उपयोग करते है. उसके ऊपर खर्च होने पर आपको पेमेंट करने पड़ता है.

    गोल्ड बांड क्या होते है इसमे निवेश से कैसे कमाएँ !

    अन्य ध्यान देने योग्य बातें

    Ambulance charges :- आपके बीमा में आपको एम्बुलेंस के charges को भी ध्यान रखना चाहिए. क्युकी कई बार इसका खर्च 10-15 हजार तक हो जाता है. कुछ पॉलिसी में इसके चार्जेस फिक्स होते है 2000-5000 और कुछ में यह कवर नहीं होते है. इसलिए आपको पॉलिसी लेते समय इसका ध्यान रखना चाहिए
    .
    फ्री हेल्थ चेकअप free health checkup

    Health बीमा पॉलिसी में आपको वर्ष में एक बार हेल्थ चेकअप फ्री दिया जाता है.या फिर एक निश्चित अमाउंट तक का हेल्थ चेकअप आप करा सकते है.या कुछ कम्पनियो द्वार कूपन दिया जाता है. जिसमे निश्चित अमाउंट तक का चैक अप आप करा सकते है

    गंभीर बीमारी का कवरेज critical illness coverage :-
    आपकी पॉलिसी में क्रिटिकल इलनेस कवर को भी शामिल कराइये या फिर यह पता कीजिये की ये सुविधा कितने वर्ष बाद आपकी पॉलिसी में दी जाएगी. कैंसर, किडनी, हार्ट अटैक जैसी गंभीर बीमारियों का कवरेज जरुरी होता है. वो भी उनके लिए जिनकी आयु बहुत ज्यादा है.

    Compensation plan of health insurance


    बीमा cover में कुछ स्पेशल ऑफर में compensation सुविधा उपभोक्ता को दी जाती है. जितने दिन आप हॉस्पिटल में भर्ती होते हो. तो एक compensation अमाउंट आपको हर हफ्ते दिया जाता है या claim के भुगतान के समय आपको यह मिलता है. परन्तु सामान्यतः ये सुविधा कुछ ही बीमा plans और कंपनी की बीमा पॉलिसी मे होती है.

    Top health Insurance company

    • IFFCO Tokio General Insurance
    • Care Health Insurance
    • Magma HDI Insurance
    • The Oriental Insurance Company
    • Aditya Birla health Insurance
    • Bharti Axa health Insurance
    • Max Bupa Helath Insurance
    • HDFC Ergo Helath Insurance

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *